Ambedkar on Islam


DR AMBEDKAR IS REGARDED AS MOST POWERFUL VOICE OF DALITS IN INDIA.

HIS WORDS ARE TAKEN AS TAKE IT FOR FOR GRANTED BY EVERY DALIT OF COUNTRY.THE TODAY DALIT LEADERS ARE MORE INTERESTED IN POLITICS AND FILL THEIR HOMES INSTEAD OF REAL DEVELOPMENT OF DALITS. SO THEY PLAYS CASTE BASED POLITICS AND THE LATEST ADDITION IS OF DALIT-MUSLIM NEXUS.

HOW COME DALITS WHO WERE TRATED IN FANATIC WAY BY THE SWORD OF ISLAM CAN FORGET THEIR PAST?

HOW COULD NEO BUDDHIST DALITS FORGOT WIPE OUT OF BUDDHISM FROM AFGANISTAN, PAKISTAN, BANGALDESH BY MUSLIMS?

HOW COULD DALITS FORGET THE WORDS OF DR AMBEDKAR ON WONDEROUS TRATEMENT BY FOLLOWERS OF ISLAM AND JOIN THE DALIT BUDDHIST NEXUX?

All quotations are from pakistan or the parition of india by Dr B.R.Ambedkar, 3rd edition ,1946 BAWS Vol. 8,1990 , govt of maharastra publication; previous name of the book: Thoughts on Pakistan

Hindu is a Kafir-Not worthy of respect-

“To the muslims, a Hindu (and any non-muslim) is a Kafir. A Kafir (non-believer in islam) is not worthy of respect. He is a low born and without status. That is why a country ruled by the Kafir (Non-muslim) is a Dar-ul-Harb (i.e. the land of war) to a Muslim, which must be conquered, by any means for the muslims and turned into Dar-ul-Islam (i.e. land of muslims alone). Given this, no further evidence seems necessary to prove that the muslims will not obey a Hindu (or for that matter any non- muslim) government ”

Ref-page 301

Brotherhood of muslims for the muslims only-

“Islam is a close corporation and the distinction that it makes between muslims and non-muslims is a very real, very positive and very alienating distinction. The brotherhood of islam is not the universal brotherhood of man.It is the brotherhood of muslims for muslims only. There is fraternity but its benefit is confined to those within that corporation.For those who are outside the corporation, there is nothing but contempt and enmity.

The second defect of islam is that it is a system of social self-government, because the allegiance of a muslim does not rest on his domicile in the country which is his but on the faith to which he belongs. To the muslim ibi bene patria is unthinkable.wherever- there is the rule of islam, there is his own country.

In other words, Islam can never allow a true muslim to adopt india as his motherland and regard a hindu as his kith and kin. that is probably the reason why maulana Mahomed Ali, a great indian but a true muslim, preferred to be buried in jerusalem rather than in india.’

(Ref-page 330-331)

Difficult to see difference between a communal and nationalist muslim:

“It is difficult to see any real difference between the communal muslims who form the Muslim league and the nationalist muslims. It is extremely doubtful whether the nationalist musalmans have any real community of sentiment, aim and policy with the congress which mark them off from the muslim league. Indeed many Congressmen are alleged to hold the view that there is no different between the two and that the nationalist muslim inside the congress are only an outpost of the communal muslims”

ref- page 408

Muslim invaders planted the seeds of Islam in India.

“The muslim invaders, no doubt, came to india singing a hymn of hate against the hindus, but, they did not merely sing their hymn of hate and go back burning a few temples on the way. That would have been a blessing. they were not content with so negative a result. They did a positive act,namely, to plant the seed of islam. The growth of this plant is remarkable. It is not a summer sapling. It is as great and as stronger as an oak. Its growth is thickest in northern india. The successive invasions have deposited their ‘silt’ served as watering exercises of devoted gardners, its growth is so thick in northern india that the remnants of hindu and buddhist culture are just shurbs. Even the sikh axe could not fell this oak”

Ref page- 65

Muslim’s strategy in politics:

“The third thing that is noticeable is teh adoption by the muslims of the gangster’s method in politics. The riots are a sufficient indication that gangsterism has become a setteled part of their strategy in poliics”

Ref page- 269

Murderers are religious martyrs

“But whether the number of prominent hindus killed by fanatic muslims is large or small mattes little. What matters is the attitude of those who count towards these murderes. The murderers paid the penalty of law where law is enforced. The leading moslems, however , never condemned these criminals. On the contrary, they were hailed as religious martyrs and agitation was carried on for clemency being shown to them.As an illustration of this attitude, one may refer to Mr. Barkat Ali , a barrister of lahore, who argued the appeal of Abdul Qayum. He went to the length of saying that qayum was not guilty of murder of Nathuramal because his act was justificable by the law of the Koran. This attitude of the moslems is quite understandable.what is not understandable is the attitude of Mr. Gandhi ‘

Ref page 157

Hindus and muslims are two distinct spritual species from aspritual point of view, Hindus and Musalmans are not merely two classes or two sects such as protestants and catholics or Shaivas and Vaishnavas. They are two distinct species.

page 193

Islam and Castism

“Everybody infers that islam must be free from slavery and caste. Regarding slavery nothing needs to be said. It stands aboloshed now by law. But while it existed much of its support was derived from islam and islamic countries.”

But if slavery has gone, caste among musalmans has remained, as an illustration one may take the conditions prevalent among the bengal muslims. The superitendent of the census for 1901 for the province of Bengal records the following interesting facts regarding the muslims of bengal:-

The conventional division of the Mahomedans into four tribes- sheikh, saiad, moghul and pathan- has very little application to this province (bengal). the mahomedans themselves recognize two main social divisions, (1) ashraf or sharaf and (2) ajlaf. ashraf means noble and includes all undoubted descendents of foreigners and converts from high castes hindus. all other mahamedans including the occupational groups and all converts of lower ranks ,a re known by the contemptous-terms. ‘ajlab’, ‘wretches’ or ‘mean people’: they are also called kamina or itar, ‘base’ or rasil, a corruption of rizal, “worthless’. in some places a third class, called arzal or lowest of all is added. with them no other mohomedan would associate, and they are forbidden to enter the mosque to use the public burial ground.

“within these groups there are castes with sovial precedence of exactly the same nature as one finds among the hindus.”

1. ashraf or better class mahomedans.

(1) saiads (2) sheikhs (3) pathans (4) moghul (5) malik and (6) mirza

2. ajlaf or lower class mahomedans.

(1) cultivating sheikhs, and other who were originally hindus but do not belong to any functional group, and have not gained admittance to the ashraf community e.g. pirali and thakrai

(2) darzi, jolaha, fakir and rangrez

(3) brahi, bhathiara, cluk, chrihar, dai, dhawa, dhunia, gaddi, kalal, kasai, kula, kunjara, laheri, mahifarosh, mallah, naliya, nikari.

(4) abdal, bako, bediya, bhat , chamba, dafali,dhobi, hallam, mucho, nagarchi, nat, panwari, madaria,tuntia.

3. arzal or degraded class.

bhanar, halalkhor, hijra, kasbi, lalbegi, mougtra, mehtar.

similar facts from other provinces of india could be gathered from their respective census reports and those who are curious may refer to them. but the facts for bengal are enough to show that the mahamoedans observed not only caste but also untouchability

page- 228-230

Muslim canon oppose social reform

The existance of these evils among the muslims is distressing enough. But far more distressing is the fact that there is no organized movement of social reform among the musalmans of india on a scale sufficient to bring about their eradication. The hindus have their social evils. But there is relieving feature about them namely, that some of them are conscious of their existance and a few of them are actively agitating for their removal. Indeed, they oppose any change in their existing practices. it is noteworthy that the muslims opposed the child marriage bill brought in the central assembly in 1930, whereby the age for marriage of a girl was raised to 14 and for a boy to 18 on the ground that it was opposed to the muslim canon law. Not only did they oppose the bill at every stage but that when it became law they started a campaign of civil disobedience against that act

Ref page-233

Muslim politicians oppose secular categories: “muslim politicians do not recognize secular categories of life as the basis of their politics because to them it means the weakening of the community in it fight against the hindus. The poor muslims will not join the poor hindus to get justice from the rich. Muslim tenants will not join hindu tenants to prevent the tyranny of the landlord. Muslim labourers will not join hindu labourers in the fight of labour against the capitalist. Why? the answer is simple. The poor muslims sees that if he joins in the fight of the poor against the rich, he may be fighting against a rich muslim. the muslim labourer feels that if he joins in the onslaught of labour against capitalist he will be injuring a muslim mill-owner. He is conscious that any injury to a rich muslim, to a muslim landlord or to a muslim mill-owner, is a disservice to the muslim community, for it is thereby weakened in ots struggle against the hindu community ”

Ref page -236

India cannot be common motherland of the hindus and muslims as per muslim laws:

According to muslim canon law the world is divided into two camps, dar-ul-islam (abode of islam) and dar-ul-harb (adobe of war). a country is dar-ul-islam when it is ruled by muslims. a country is dar-ul-harb when muslims only reside in it but are not rulers of it. that being the canon law of the muslims, india cannot be the common motherland of the hindus and the musalmans. it can be the land of the musalmans- but it cannot be the land of the ‘hindus and musalmans living as equals’. Further, it can be the land of the musalmans only when it is governed by the muslims. the moment the land become subject to the authoritynof a non-muslim power, it ceases to be the lnd of the muslims. instead of being dar-ul-islam it becomes dar-ul-harb.

I must not be supposed that this view is only of academic interest. For it is capable of becoming an active force capable of influencing the conduct of the muslims

Ref- page 294

Jihad to transform dar-ul-harb india to dar-ul-islam

It might also be mentioned that hijrat is not the only way of escape to muslims who find themselves in adar-ul-harb. there is another injunction of muslim canon law called jihad (crusade) by which it beomes incument on a muslim ruler to extend the rules of islam until the whole world shall have been brought under its sway. The world, being divided into two camps, dar-ul-islam (adobe of islam) , dar-ul-harb (adobe of war), all countries come under one category or the other. technically , it is the duty of the muslim ruler, who is capable of doing so, to transform dar-ul-harb into dar-ul-islam.

The fact remains that india, if not exclusively under muslim rule, is a dar-ul-harb and the musalmans, according to the tenents of islam are justified in procaliming a jihad.

The fact remains that india, if not exclusively under muslim rule, is a dar-ul-harb and the muslamns, according to the tenets of islam are justified in proclaiming a jihad.

not only can they proclaim jihad but they can call the aid of a foriegn muslim power to make jihad success, or if the foreign muslim power intents to proclaim a jihad, help that power in making its endeavour a succs.

Ref-page 295-296

Why is hindu-muslim unity a failure?

“the real explanation of this failure of hindu-muslim unity lies in the failure to realize that what stands between the hindus and muslims is not a mere matter of difference , and that this antagonism is not to be attributed to material cause. it is formed by causes which take their origin in historical, religious, cultural and social antipathy, of which political antipathy is only a reflection.”

Ref- page 329

Hindu-muslim unity is out of sight

Nothing i could say can so well show the futility of any hope of hindu-muslim unity. Hindu -Muslim unity upto now was at least in sight although it was like a mirage. today it is out of sight and also out of mind. even mr gandhi has given up what, he perheps now realizes,is an impossible task.

Ref- page 187

Transfer of minorities is the only remedy for communal peace.

“the transfer of minorities is the only lasting remedy for communal peace, is beyond doubt. if that is so, there is no reason why the hindus and the muslims should keep on trading in safeguards which have proved so unsafe. if small countries, with limited resources like greece, turkey and bulgaria, were capable of such an undertaking there is no reason to suppose that what they did cannot be accomplished by indians”

The problem of majority-minority will continue

“the musalmans are scattered all over hindustan-though they are mostly congregated in towns and no ingenuity in the matter of redrawing of boundaries can make it homogenous. the only way to make hindustan homogenous, is to arrange for exchange of polulation. until that is done, it must be admitted that even with the creation of pakistan , the problem of majority vs minority will remain in hindustan asbefore and will continue to produce disharmony in the body politic of hindustan ”

Ref- page 117

Advertisements

About Fan of Agniveer

I am a fan of Agniveer

Posted on July 11, 2011, in Views. Bookmark the permalink. 3 Comments.

  1. Thanks for the brilliant article. Can I repost it on by blog space here aryaamitdua.blogspot.com along with link to this article?

  2. मुस्लिमों के कथित दलित-प्रेम का भंडाफोड ..इस्लाम के सम्बन्ध में स्वयं बाबा साहब भीमराव अम्बेडकर के विचार —

    १. हिन्दू काफ़िर सम्मान के योग्य नहीं-”मुसलमानों के लिए हिन्दू काफ़िर हैं, और एक काफ़िर सम्मान के योग्य नहीं है। वह निम्न कुल में जन्मा होता है, और उसकी कोई सामाजिक स्थिति नहीं होती। इसलिए जिस देश में क़ाफिरों का शासनहो, वह मुसलमानों के लिए दार-उल-हर्ब है ऐसी सति में यह साबित करने के लिए और सबूत देने की आवश्यकता नहीं है कि मुसलमान हिन्दू सरकार के शासन को स्वीकार नहीं करेंगे।” (पृ. ३०४)

    २. मुस्लिम भ्रातृभाव केवल मुसलमानों के लिए-”इस्लाम एक बंद निकाय की तरह है, जो मुसलमानों और गैर-मुसलमानों के बीच जो भेद यह करता है, वह बिल्कुल मूर्त और स्पष्ट है। इस्लाम का भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृभाव मानवता का भ्रातृत्व नहीं है, मुसलमानों का मुसलमानों से ही भ्रातृत्व है। यह बंधुत्व है, परन्तु इसका लाभ अपने ही निकाय के लोगों तक सीमित है और जो इस निकाय से बाहर हैं, उनके लिए इसमें सिर्फ घृणा ओर शत्रुता ही है। इस्लाम का दूसरा अवगुण यह है कि यह सामाजिक स्वशासन की एक पद्धति है और स्थानीय स्वशासन से मेल नहीं खाता, क्योंकि मुसलमानों की निष्ठा, जिस देश में वे रहते हैं, उसके प्रति नहीं होती, बल्कि वह उस धार्मिक विश्वास पर निर्भर करती है, जिसका कि वे एक हिस्सा है। एक मुसलमान के लिए इसके विपरीत या उल्टे सोचना अत्यन्त दुष्कर है। जहाँ कहीं इस्लाम का शासन हैं, वहीं उसका अपना विश्वासहै। दूसरे शब्दों में, इस्लाम एक सच्चे मुसलमानों को भारत को अपनी मातृभूमि और हिन्दुओं को अपना निकट सम्बन्धी मानने की इज़ाजत नहीं देता। सम्भवतः यही वजह थी कि मौलाना मुहम्मद अली जैसे एक महान भारतीय, परन्तु सच्चे मुसलमान ने, अपने, शरीर को हिन्दुस्तान की बजाए येरूसलम में दफनाया जाना अधिक पसंद किया।”

    ३. एक साम्प्रदायिक और राष्ट्रीय मुसलमान में अन्तर देख पाना मुश्किल-”लीग को बनाने वाले साम्प्रदायिक मुसलमानों और राष्ट्रवादी मुसलमानों के अन्तर को समझना कठिन है। यह अत्यन्त संदिग्ध है कि राष्ट्रवादी मुसलमान किसी वास्तविक जातीय भावना, लक्ष्य तथा नीति से कांग्रेस के साथ रहते हैं, जिसके फलस्वरूप वे मुस्लिम लीग् से पृथक पहचाने जाते हैं। यह कहा जाता है कि वास्तव में अधिकांश कांग्रेसजनों की धारण है कि इन दोनों में कोई अन्तर नहीं है, और कांग्रेस के अन्दर राष्ट्रवादी मुसलमानों की स्थिति साम्प्रदायिक मुसलमानों की सेना की एक चौकी की तरह है। यह धारणा असत्य प्रतीत नहीं होती। जब कोई व्यक्ति इस बात को याद करता है कि राष्ट्रवादी मुसलमानों के नेता स्वर्गीय डॉ. अंसारी ने साम्प्रदायिक निर्णय का विरोध करने से इंकार किया था, यद्यपिकांग्रेस और राष्ट्रवादी मुसलमानों द्वारा पारित प्रस्ताव का घोर विरोध होने पर भी मुसलमानों को पृथक निर्वाचन उपलब्ध हुआ।” (पृ. ४१४-४१५)

    ४. भारत में इस्लाम के बीज मुस्लिम आक्रांताओं ने बोए-”मुस्लिम आक्रांता निस्संदेह हिन्दुओं के विरुद्ध घृणा के गीत गाते हुए आए थे। परन्तु वे घृणा का वह गीत गाकर और मार्ग में कुछ मंदिरों को आग लगा कर ही वापस नहीं लौटे। ऐसा होता तो यह वरदान माना जाता। वे ऐसे नकारात्मक परिणाम मात्र से संतुष्ट नहीं थे। उन्होंने इस्लाम का पौधा लगाते हुए एक सकारात्मक कार्य भी किया। इस पौधे का विकास भी उल्लेखनीय है। यह ग्रीष्म में रोपा गया कोई पौधा नहीं है। यह तो ओक (बांज) वृक्ष की तरह विशाल और सुदृढ़ है। उत्तरी भारत में इसका सर्वाधिक सघन विकास हुआ है। एक के बाद हुए दूसरे हमले ने इसे अन्यत्र कहीं को भी अपेक्षा अपनी ‘गाद’ से अधिक भरा है और उन्होंने निष्ठावान मालियों के तुल्य इसमें पानी देने का कार्य किया है। उत्तरी भारत में इसका विकास इतना सघन है कि हिन्दू और बौद्ध अवशेष झाड़ियों के समान होकर रह गए हैं; यहाँ तक कि सिखों की कुल्हाड़ी भी इस ओक (बांज) वृक्ष को काट कर नहीं गिरा सकी।” (पृ. ४९)

    ५. मुसलमानों की राजनीतिक दाँव-पेंच में गुंडागर्दी-”तीसरी बात, मुसलमानों द्वारा राजनीति में अपराधियों के तौर-तरीके अपनाया जाना है। दंगे इस बात के पर्याप्त संकेत हैं कि गुंडागिर्दी उनकी राजनीति का एक स्थापित तरीका हो गया है।” (पृ. २६७)

    ६. हत्यारे धार्मिक शहीद-”महत्व की बात यह है कि धर्मांध मुसलमानों द्वारा कितने प्रमुख हिन्दुओं की हत्या की गई। मूल प्रश्न है उन लोगों के दृष्टिकोण का, जिन्होंने यह कत्ल किये। जहाँ कानून लागू किया जा सका, वहाँ हत्यारों को कानून के अनुसार सज़ा मिली; तथापि प्रमुख मुसलमानों ने इन अपराधियों की कभी निंदा नहीं की। इसके वपिरीत उन्हें ‘गाजी’ बताकर उनका स्वागत किया गया और उनके क्षमादान के लिए आन्दोलन शुरू कर दिए गए। इस दृष्टिकोण का एक उदाहरण है लाहौर के बैरिस्टर मि. बरकत अली का, जिसने अब्दुल कयूम की ओर से अपील दायर की। वह तो यहाँ तक कह गया कि कयूम नाथूराम की हत्या का दोषी नहीं है, क्योंकि कुरान के कानून के अनुसार यह न्यायोचित है। मुसलमानों का यह दृष्टिकोण तो समझ में आता है, परन्तु जो बात समझ में नहीं आती, वह है श्री गांधी का दृष्टिकोण।”(पृ. १४७-१४८)

    ७. हिन्दू और मुसलमान दो विभिन्न प्रजातियां-”आध्याम्कि दृष्टि से हिन्दू और मुसलमान केवल ऐसे दो वर्ग या सम्प्रदाय नहीं हैं जैसे प्रोटेस्टेंट्‌स और कैथोलिक या शैव और वैष्णव, बल्कि वे तो दो अलग-अलग प्रजातियां हैं।” (पृ. १८५)

    ८. इस्लाम और जातिप्रथा-”जाति प्रथा को लीजिए। इस्लाम भ्रातृ-भाव की बात कहता है। हर व्यक्ति यही अनुमान लगाता है कि इस्लाम दास प्रथा और जाति प्रथा से मुक्त होगा। गुलामी के बारे में तो कहने की आवश्यकता ही नहीं। अब कानून यह समाप्त हो चुकी है। परन्तु जब यह विद्यमान थी, तो ज्यादातर समर्थन इसे इस्लाम और इस्लामी देशों से ही मिलता था। कुरान में पैंगबर ने गुलामों के साथ उचित इस्लाम में ऐसा कुछ भी नहीं है जो इस अभिषाप के उन्मूलन के समर्थन में हो। जैसाकि सर डब्ल्यू. म्यूर ने स्पष्ट कहा है-

    ”….गुलाम या दासप्रथा समाप्त हो जाने में मुसलमानों का कोई हाथ नहीं है, क्योंकि जब इस प्रथा के बंधन ढीले करने का अवसर था, तब मुसलमानों ने उसको मजबूती से पकड़ लिया….. किसी मुसलमान पर यह दायित्व नहीं है कि वह अपने गुलामों को मुक्त कर दें…..”

    ”परन्तु गुलामी भले विदा हो गईहो, जाति तो मुसलमानों में क़ायम है। उदाहरण के लिए बंगाल के मुसलमानों की स्थिति को लिया जा सकता है। १९०१ के लिए बंगाल प्रांत के जनगणना अधीक्षक ने बंगाल के मुसलमानों के बारे में यह रोचक तथ्य दर्ज किए हैं :

    ”मुसलमानों का चार वर्गों-शेख, सैयद, मुग़ल और पठान-में परम्परागत विभाजन इस पांत (बंगाल) में प्रायः लागू नहीं है। मुसलमान दो मुखय सामाजिक विभाग मानते हैं-१. अशरफ अथवा शरु और २. अज़लफ। अशरफ से तात्पर्य है ‘कुलीन’, और इसमें विदेशियों के वंशज तथा ऊँची जाति के अधर्मांतरित हिन्दू शामिल हैं। शेष अन्य मुसलमान जिनमें व्यावसायिक वर्ग और निचली जातियों के धर्मांतरित शामिल हैं, उन्हें अज़लफ अर्थात्‌ नीचा अथवा निकृष्ट व्यक्ति माना जाता है। उन्हें कमीना अथवा इतर कमीन या रासिल, जो रिजाल का भ्रष्ट रूप है, ‘बेकार’ कहा जाता है। कुछ स्थानों पर एक तीसरा वर्ग ‘अरज़ल’ भी है, जिसमें आने वाले व्यक्ति सबसे नीच समझे जाते हैं। उनके साथ कोई भी अन्य मुसलमान मिलेगा-जुलेगा नहीं और न उन्हें मस्जिद और सार्वजनिक कब्रिस्तानों में प्रवेश करने दिया जाता है।

    इन वर्गों में भी हिन्दुओं में प्रचलित जैसी सामाजिक वरीयताऔर जातियां हैं।

    १. ‘अशरफ’ अथवा उच्च वर्ग के मुसलमान (प) सैयद, (पप) शेख, (पपप) पठान, (पअ) मुगल, (अ) मलिक और (अप) मिर्ज़ा।

    २. ‘अज़लफ’ अथवा निम्न वर्ग के मुसलमान

    (i) खेती करने वाले शेख और अन्य वे लोग जो मूलतः हिन्दू थे, किन्तु किसी बुद्धिजीवी वर्ग से सम्बन्धित नहीं हैं और जिन्हें अशरफ समुदाय, अर्थात्‌ पिराली और ठकराई आदि में प्रवेश नहीं मिला है।

    ( ii) दर्जी, जुलाहा, फकीर और रंगरेज।

    (iii) बाढ़ी, भटियारा, चिक, चूड़ीहार, दाई, धावा, धुनिया, गड्‌डी, कलाल, कसाई, कुला, कुंजरा, लहेरी, माहीफरोश, मल्लाह, नालिया, निकारी।

    (iv) अब्दाल, बाको, बेडिया, भाट, चंबा, डफाली, धोबी, हज्जाम, मुचो, नगारची, नट, पनवाड़िया, मदारिया, तुन्तिया।

    ३. ‘अरजल’ अथवा निकृष्ट वर्ग

    भानार, हलालखोदर, हिजड़ा, कसंबी, लालबेगी, मोगता, मेहतर।

    जनगणना अधीक्षक ने मुस्लिम सामाजिक व्यवस्था के एक और पक्ष का भी उल्लेख किया है। वह है ‘पंचायत प्रणाली’ का प्रचलन। वह बताते हैं :

    ”पंचायत का प्राधिकार सामाजिक तथा व्यापार सम्बन्धी मामलों तक व्याप्त है और……..अन्य समुदायों के लोगों से विवाह एक ऐसा अपराध है, जिस पर शासी निकायकार्यवाही करता है। परिणामत: ये वर्ग भी हिन्दू जातियों के समान ही प्रायः कठोर संगोती हैं, अंतर-विवाह पर रोक ऊंची जातियों से लेकर नीची जातियों तक लागू है। उदाहरणतः कोई घूमा अपनी ही जाति अर्थात्‌ घूमा में ही विवाह कर सकता है। यदि इस नियम की अवहेलना की जाती है तो ऐसा करने वाले को तत्काल पंचायत के समक्ष पेश किया जाता है। एक जाति का कोई भी व्यक्ति आसानी से किसी दूसरी जाति में प्रवेश नहीं ले पाता और उसे अपनी उसी जाति का नाम कायम रखना पड़ता है, जिसमें उसने जन्म लिया है। यदि वह अपना लेता है, तब भी उसे उसी समुदाय का माना जाता है, जिसमें कि उसने जन्म लिया था….. हजारों जुलाहे कसाई का धंधा अपना चुके हैं, किन्तु वे अब भी जुलाहे ही कहे जाते हैं।”

    इसी तरह के तथ्य अन्य भारतीय प्रान्तों के बारे में भी वहाँ की जनगणना रिपोर्टों से वे लोग एकत्रित कर सकते हैं, जो उनका उल्लेख करना चाहते हों। परन्तु बंगाल के तयि ही यह दर्शाने के लिए पर्याप्त हैं कि मुसलमानों में जाति प्राणी ही नहीं, छुआछूत भी प्रचलित है।” (पृ. २२१-२२३)

    ९. इस्लामी कानून समाज-सुधार के विरोधी-”मुसलमानों में इन बुराइयों का होना दुखदहैं। किन्तु उससे भी अधिक दुखद तथ्य यह है कि भारत के मुसलमानों में समाज सुधार का ऐसा कोई संगठित आन्दोलन नहीं उभरा जो इन बुराईयों का सफलतापूर्वक उन्मूलन कर सके। हिन्दुओं में भी अनेक सामाजिक बुराईयां हैं। परन्तु सन्तोषजनक बात यह है कि उनमें से अनेक इनकी विद्यमानता के प्रति सजग हैं और उनमें से कुछ उन बुराईयों के उन्मूलन हेतु सक्रिय तौर पर आन्दोलन भी चला रहे हैं। दूसरी ओर, मुसलमान यह महसूस ही नहीं करते कि ये बुराईयां हैं। परिणामतः वे उनके निवारण हेतु सक्रियता भी नहीं दर्शाते। इसके विपरीत, वे अपनी मौजूदा प्रथाओं में किसी भी परिवर्तन का विरोध करते हैं। यह उल्लेखनीय है कि मुसलमानों ने केन्द्रीय असेंबली में १९३० में पेश किए गए बाल विवाह विरोधी विधेयक का भी विरोध किया था, जिसमें लड़की की विवाह-योग्य आयु १४ वर्ष् और लड़के की १८ वर्ष करने का प्रावधान था। मुसलमानों ने इस विधेयक का विरोध इस आधार पर किया कि ऐसा किया जाना मुस्लिम धर्मग्रन्थ द्वारा निर्धारित कानून के विरुद्ध होगा। उन्होंने इस विधेयक का हर चरण पर विरोध ही नहीं किया, बल्कि जब यह कानून बन गया तो उसके खिलाफ सविनय अवज्ञाअभियान भी छेड़ा। सौभाग्य से उक्त अधिनियम के विरुद्ध मुसलमानों द्वारा छोड़ा गया वह अभ्यिान फेल नहीं हो पाया, और उन्हीं दिनों कांग्रेस द्वारा चलाए गए सविनय अवज्ञा आन्दोलन में समा गया। परन्तु उस अभियान से यह तो सिद्ध हो ही जाता है कि मुसलमान समाज सुधार के कितने प्रबल विरोधी हैं।” (पृ. २२६)

    १०. मुस्लिम राजनीतिज्ञों द्वारा धर्मनिरपेक्षता का विरोध-”मुस्लिम राजनीतिज्ञ जीवन के धर्मनिरपेक्ष पहलुओं को अपनी राजनीति का आधार नहीं मानते, क्योंकि उने लिए इसका अर्थ हिन्दुओं के विरुद्ध अपने संघर्ष में अपने समुदाय को कमजोर करना ही है। गरीब मुसलमान धनियों से इंसाु पाने के लिए गरीब हिन्दुओं के साथ नहीं मिलेंगे। मुस्लिम जोतदार जमींदारों के अन्याय को रोकने के लिए अपनी ही श्रेणी के हिन्दुओं के साथ एकजुट नहीं होंगे। पूंजीवाद के खिलाफ श्रमिक के संघर्ष में मुस्लिम श्रमिक हिन्दू श्रमिकों के साथ शामिल नहीं होंगे। क्यों ? उत्तर बड़ा सरल है। गरीब मुसलमान यह सोचता है कि यदि वह धनी के खिलाफ गरीबों के संघर्ष में शामिल होता है तो उसे एक धनी मुसलमान से भी टकराना पड़ेगा। मुस्लिम जोतदार यह महसूस करते हैं कि यदि वे जमींदारों के खिलाफ अभियान में योगदान करते हैं तो उन्हें एक मुस्लिम जमींदार के खिलाफ भी संघर्ष करना पड़ सकता है। मुसलमान मजदूर यह सोचता है कि यदि वह पूंजीपति के खिलाफ श्रमिक के संघर्ष में सहभागी बना तो वह मुस्लिम मिल-मालिक की भावाओं को आघात पहुंचाएगा। वह इस बारे में सजग हैं कि किसी धनी मुस्लिम, मुस्लिम ज़मींदार अथवा मुस्लिम मिल-मालिक को आघात पहुंचाना मुस्लिम समुदाय को हानि पहुंचाना है और ऐसा करने का तात्पर्य हिन्दू समुदाय के विरुद्ध मुसलमानों के संघर्ष को कमजोर करना ही होगा।” (पृ. २२९-२३०)

    ११. मुस्लिम कानूनों के अनुसार भरत हिन्दुओं और मुसलमानों की समान मातृभूमि नहीं हो सकती-”मुस्लिम धर्म के सिद्धान्तों के अनुसार, विश्व दो हिस्सो में विभाजित है-दार-उल-इस्लाम तथा दार-उल-हर्ब। मुस्लिम शासित देश दार-उल-इस्लाम हैं। वह देश जिसमें मुसलमान सिर्फ रहते हैं, न कि उस पर शासन करते हैं, दार-उल-हर्ब है। मुस्लिम धार्मिक कानून का ऐसा होने के कारण भारत हिन्दुओं तथा मुसलमानों दोनों की मातृभूमि नहीं हो सकती है। यह मुसलमानों की धरती हो सकती है-किन्तु यह हिन्दुओं और मुसलमानों की धरती, जिसमें दोनोंसमानता से रहें, नहीं हो सकती। फिर, जब इस पर मुसलमानों का शासन होगा तो यह मुसलमानों की धरती हो सकती है। इस समय यह देश गैर-मुस्लिम सत्ता के प्राधिकार के अन्तर्गत हैं, इसलिए मुसलमानों की धरती नहीं हो सकती। यह देश दार-उल-इस्लाम होने की बजाय दार-उल-हर्ब बन जाताप है। हमें यह नहीं मान लेना चाहिए कि यह दृष्टिकोण केवल शास्त्रीय है। यह सिद्धान्त मुसलमानों को प्रभावित करने में बहुत कारगर कारण हो सकता है।” (पृ. २९६-२९७)

    १२. दार-उल-हर्व भारत को दार-उल-इस्लाम बनाने के लिए जिहाद-”यह उल्लेखनीय है कि जो मुसलमान अपने आपको दार-उल-हर्ब में पाते हैं, उनके बचाव के लिए हिजरत ही उपाय नहीं हैं मुस्लिम धार्मिक कानून की दूसरी आज्ञा जिहाद (धर्म युद्ध) है, जिसके तहत हर मुसलमान शासक का यह कर्त्तव्य हो जाता है कि इस्लाम के शासन का तब तक विस्तार करता रहे, जब तक सारी दुनिया मुसलमानों के नियंत्रण में नहीं आ जाती। संसार के दो खेमों में बंटने की वजह से सारे देश या दो दार-उल-इस्लाम (इस्लाम का घर) या दार-उल-हर्ब (युद्ध का घर) की श्रेणी में आते हैं। तकनीकी तौर पर हर मुस्लिम शासक का, जो इसके लिए सक्षम है, कर्त्तव्य है कि वह दार-उल-हब्र कोदार-उल-इस्लाम में बदल दे; और भारत में जिस तरह मुसलमानों के हिज़रत का मार्ग अपनाने के उदाहरण हैं, वहाँ ऐसेस भी उदाहरण हैं कि उन्होंने जिहाद की घोषणा करने में संकोच नहीं किया।”

    ”तथ्य यह है कि भारत, चाहे एक मात्र मुस्लिम शासन के अधीन न हो, दार-उल-हर्ब है, और इस्लामी सिद्धान्तों के अनुसार मुसलमानों द्वारा जिहाद की घोषणा करना न्यायसंगत है। वे जिहाद की घोषणा ही नहीं कर सकते, बल्कि उसकी सफलता के लिए विदेशी मुस्लिम शक्ति की मदद भी ले सकते हैं, और यदि विदेशी मुस्लिम शक्ति जिहाद की घोषणा करना चाहती है तो उसकी सफलता के लिए सहायता दे सकते हैं।” (पृ. २९७-२९८)

    १३. हिन्दू-मुस्लिम एकता असफल क्यों रही ?-”हिन्दू-मुस्लिम एकता की विफलता का मुखय कारण इस अहसास का न होना है कि हिन्दुओं और मुसलमानों के बीच जो भिन्नताएं हैं, वे मात्र भिन्नताएं ही नहीं हैं, और उनके बीच मनमुटाव की भावना सिर्फ भौतिक कारणों से ही नहीं हैं इस विभिन्नता का स्रोत ऐतिहासिक, धार्मिक, सांस्कृतिक एवं सामाजिक दुर्भावना है, और राजनीतिक दुर्भावना तो मात्र प्रतिबिंब है। ये सारी बातें असंतोष का दरिया बना लेती हैं जिसका पोषण उन तमाम बातों से होता है जो बढ़ते-बढ़ते सामान्य धाराओं को आप्लावित करता चला जाता हैं दूसरे स्रोत से पानी की कोई भी धारा, चाहे वह कितनी भी पवित्र क्यों न हो, जब स्वयं उसमें आ मिलती है तो उसका रंग बदलने के बजाय वह स्वयं उस जैसी हो जाती हैं दुर्भावना का यह अवसाद, जो धारा में जमा हो गया हैं, अब बहुत पक्का और गहरा बन गया है। जब तक ये दुर्भावनाएं विद्यमान रहती हैं, तब तक हिन्दू और मुसलमानों के बीच एकता की अपेक्षा करना अस्वाभाविक है।” (पृ. ३३६)

    १४. हिन्दू-मुस्लिम एकता असम्भव कार्य-”हिन्दू-मुस्लिम एकता की निरर्थकता को प्रगट करने के लिए मैं इन शब्दों से और कोई शबदावली नहीं रख सकता। अब तक हिन्दू-मुस्लिम एकता कम-से-कम दिखती तो थी, भले ही वह मृग मरीचिका ही क्यों न हो। आज तो न वह दिखती हे, और न ही मन में है। यहाँ तक कि अब तो गाांी ने भी इसकी आशा छोड़ दी है और शायद अब वह समझने लगे हैं कि यह एक असम्भव कार्य है।” (पृ. १७८)

    १५. साम्प्रदायिक शान्ति के लिए अलपसंखयकों की अदला-बदली ही एक मात्र हल-”यह बात निश्चित है कि साम्प्रदायिक शांति स्थापित करने का टिकाऊ तरीका अल्पसंखयकों की अदला-बदली ही हैं।यदि यही बात है तो फिर वह व्यर्थ होगा कि हिन्दू और मुसलमान संरक्षण के ऐसे उपाय खोजने में लगे रहें जो इतने असुरक्षित पाए गए हैं। यदि यूनान, तुकी और बुल्गारिया जैसे सीमित साधनों वाले छोटे-छोटे देश भी यह काम पूरा कर सके तो यह मानने का कोई कारण नहीं है कि हिन्दुस्तानी ऐसा नहीं कर सकते। फिर यहाँ तो बहुत कम जनता को अदला-बदली करने की आवश्यकता पड़ेगी ओर चूंकि कुछ ही बाधाओं को दूर करना है। इसलिए साम्प्रदायिक शांति स्थापित करने के लिए एक निश्चित उपाय को न अपनाना अत्यन्त उपहासास्पद होगा।” (पृ. १०१)

    १६. विभाजन के बाद भी अल्पसंखयक-बहुसंखयक की समस्या बनी ही रहेगी-”यह बात स्वीकार कर लेनी चाहिए कि पाकिस्तान बनने से हिन्दुस्तान साम्प्रदायिक समस्यासे मुक्त नहीं हो जाएगा। सीमाओं का पुनर्निर्धारण करके पाकिस्तान को तो एक सजातीय देश बनाया जा सकता हे, परन्तु हिन्दुस्तान तो एक मिश्रित देश बना ही रहेगा। मुसलमान समूचे हिन्दुस्तान में छितरे हुए हैं-यद्यपि वे मुखयतः शहरों और कस्बों में केंद्रित हैं। चाहे किसी भी ढंग से सीमांकन की कोशिश की जाए, उसे सजातीय देश नहीं बनायाजा सकता। हिन्दुस्तान को सजातीय देश बनाने काएकमात्र तरीका है, जनसंखया की अदला-बदली की व्यवस्था करना। यह अवश्य विचार कर लेना चाहिए कि जब तक ऐसा नहीं कियाजाएगा, हिन्दुस्तान में बहुसंखयक बनाम अल्पसंखयक की समस्या और हिन्दुस्तान की राजनीति में असंगति पहले की तरह बनी ही रहेगी।” (पृ. १०३)

    १७. अल्पसंखयकों की सुरक्षा के लिए संवैधानिक उपाय-”अब मैं अल्पसंखयकों की उस समस्या की ओर आपका ध्यान दिलाना चाहता हूँ जो सीमाओं के पुनः निर्धारण के उपरान्त भी पाकिस्तान में बनी रहेंगी। उनके हितों की रक्षा करने के दो तरीके हैं। सबसे पहले, अल्पसंखयकों के राजनीतिक और सांस्कृतिक अधिकारों की रक्षा के लिए संविधान में सुरक्षा उपाय प्रदान करने हैं। भारतीय के लिए यह एक सुपरिचित मामला है और इस बात पर विस्तार से विचार करना आवश्यक है।” (पृ. ३८५)

    १८. अल्पसंखयकों की अदला-बदली-एक संभावित हल-”दूसरा तरीका है पाकिस्तान से हिन्दुस्तान में उनका स्थानान्तरणकरने की स्थिति पैदा करना। अधिकांश जनता इस समाधान को अधिक पसंद करती हे और वह पाकिस्तान की स्वीकृति के लिए तैयार और इच्छुक हो जाएगी, यदि यह प्रदर्शित किया जा से कि जनसंखया का आदान-प्रदान सम्भव है। परन्तु इसे वे होश उड़ा देने वालीऔर दुरूह समस्या समझते हैं। निस्संदेह यह एक आतंकित दिमाग की निशनी है। यदि मामले पर ठंडे और शांतिपूर्ण एंग से विचार किया जाए तो पता लग जाएगा कि यह समस्या न तो होश उड़ाने वाली है, और न दुरूह।” (पृ. ३८५)

    (सभी उद्धरण बाबा साहेब डॉ. अम्बेडकर सम्पूर्ण वाड्‌मय, खंड १५-‘पाकिस्तान और भारत के विभाजन, २००० से लिए गए हैं)

    Posted by डॉ. जय प्रकाश गुप्त

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: