निर्मल बाबा के साथ गुफ्तगू


पाखंड खंडन

निर्मल बाबा के साथ गुफ्तगू

पप्पू – “बाबा, मुझे रास्ता दिखाएँ मेरी शादी नहीं हो रही, बहुत चिंतित हूँ!”

निर्…मल बाबा – बेटा आप करते क्या हो??

… पप्पू – आप बताये शादी के लिए कौन सा काम उचित रहेगा??

निर्मल बाबा – तुम मिठाई की दूकान खोल लो! …

… पप्पू – बाबा वो खोली हुई है, मेरे पिता की वो दूकान है!

निर्मल बाबा – शनिवार के दिन दूकान 9 बजे तक खोला करो!

पप्पू – शनी मंदिर के पास ही मेरी दूकान है जिस वजह से मैं देर रात तक दूकान खोला रहता हूँ!

निर्मल बाबा – काले रंग के कुत्ते को मिठाई खिलाया करो!

पप्पू – मेरे घर में काले रंग का ही कुत्ता है जिसे मैं सुबह शाम मिठाई ही मिठाई खिलाता हूँ!

निर्मल बाबा – सोमवार को शिव मंदिर जाया करो!

पप्पू – मैं केवल सोमवार नहीं, हर दिन शिव मंदिर जाता हूँ!

निर्मल बाबा – भाई-बहन कितने है???

पप्पू – बाबा, आपके हिसाब से शादी के लिए कितने भाई बहन होने चाहिए!

निर्मल बाबा – दो भाई और एक बहन!

पप्पू – बाबा मेरे सच में दो भाई और एक बहन है!

निर्मल बाबा – दान किया करो!

पप्पू – बाबा मैंने अनाथ-आश्रम खोल रखा है और उचित दान करता रहता हूँ!

निर्मल बाबा – बद्रीनाथ कितनी बात गए हो?

पप्पू – बाबा, आपके हिसाब के शादी के लिए कितनी बार बद्रीनाथ जाना चाहिए???

निर्मल बाबा – कम से कम २ बार!

पप्पू – मैं भी दो बार ही गया हूँ!

निर्मल बाबा – अच्छा, नीले रंग की शर्ट जाएदा पहना करो!

पप्पू – बाबा, पिछले चार साल से मैं नीले रंग की शर्ट पहन रहा हूँ कल ही धोले के लिए उतारी थी आज सूखते ही दुबारा पहन लूँगा, और कोई उपाए??

निर्मल बाबा – माँ-बाप की सेवा करते हूँ!

पप्पू – माँ बाप की इतनी सेवा की कि दोनों सीधे स्वर्ग चले गए!!

बाबा एक सवाल पुछु??

निर्मल बाबा – हाँ, जरुर???

पप्पू – बाबा, जरा ध्यान से देखिएगा कि मेरे माथे में C लिखा हुया है???

निर्मल बाबा – नहीं!

पप्पू – तो बाबा, हो सकता है कि या तो आपके पास समय जाएदा है जो बैठ के लगे मूर्ख बनाने या तो इन बैठे हुए सभी लोगो के पास पैसा जाएदा है जो 3-3 हजार का टिकट लेके मूर्ख बनने यहाँ आ गए?? वैसे एक बात और कह देता हूँ बाबा!

निर्मल बाबा- हाँ क्या??

पप्पू – मैं पहले से शादी शुदा हूँ और दो बच्चो का बाप भी! वो तो यहाँ से गुजर रहा था तो सोचा की आपसे थोडा टाइम पास करता चलूँ …..!!

Advertisements

About Fan of Agniveer

I am a fan of Agniveer

Posted on April 9, 2012, in we condemn superstitions. Bookmark the permalink. 2 Comments.

  1. justtruthseeker
  2. Please put a batten of site Map also containing details of Article in one Page. I am searching a article published by you ” Ved Hi Ishwariy Gyan Qyo”?

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: