शिवाजी का पत्र-गद्दार मिर्जा राजा जयसिंह के नाम


ब्रिज शर्मा जी

भारतीय इतिहास में दो ऐसे पत्र मिलते हैं जिन्हें दो विख्यात महापुरुषों ने दो कुख्यात व्यक्तिओं को लिखे थे .इनमे पहिला पत्र “जफरनामा “कहलाता है .जिसे श्री गुरु गोविन्द सिंह ने औरंगजेब को भाई दया सिंह के हाथों भेजा था .यह दशम ग्रन्थ में शामिल है .इसमे कुल 130 पद हैं .दूसरा पत्र शिवाजी ने आमेर के राजा जयसिंह को भेजा था .जो उसे 3 मार्च 1665 को मिल गया था.इन दोनों पत्रों में यह समानताएं हैं की दोनों फारसी भाषा में शेर के रूप में लिखे गएहैं .दोनों की प्रष्ट भूमि और विषय एक जैसी है .दोनों में देश और धर्म के प्रति अटूट प्रेम प्रकट किया गया है .जफरनामा के बारे में अगली पोस्टों में लिखेंगे .
शिवाजी पत्र बरसों तक पटना साहेब के गुरुद्वारे के ग्रंथागार में रखा रहा ..बाद में उसे “बाबू जगन्नाथ रत्नाकर “ने सन 1909 अप्रेल में काशी में
काशी नागरी प्रचारिणी सभा से प्रकाशित किया था.बाद में “अमर स्वामी सरस्वती ने उस पत्र का हिन्दी में पद्य और गद्य ने अनुवाद किया था.फिर सन 1985 में अमरज्योति प्रकाशन गाजियाबाद ने पुनः प्रकाशित किया था
राजा जयसिंह आमेर का राजा था ,वह उसी राजा मानसिंह का नाती था ,जिसने अपनी बहिन अकबर से ब्याही थी .जयसिंह सन 1627 में गद्दी पर बैठा था .और औरंगजेब का मित्र था .औरंगजेब ने उसे 4000 घुड सवारों का सेनापति बना कर “मिर्जा राजा “की पदवी दी थी .औरंगजेब पूरे भारत में इस्लामी राज्य फैलाना चाहता था.लेकिन शिवाजी के कारण वह सफल नही हो रहा था .औरंगजेब चालाक और मक्कार था .उसने पाहिले तो शिवाजी से से मित्रता करनी चाही .और दोस्ती के बदले शिवाजी से 23 किले मांगे .लेकिन शिवाजी उसका प्रस्ताव ठुकराते हुए 1664 में सूरत पर हमला कर दिया .और मुगलों की वह सारी संपत्ति लूट ली जो उनहोंने हिन्दुओं से लूटी थी
फिर औरंगजेब ने अपने मामा शाईश्ता खान को चालीस हजार की फ़ौज लेकर शिवाजी पर हमला करावा दिया .और शिवाजी ने पूना के लाल महल में उसकी उंगलियाँ काट दीं.और वह भाग गया
फिर औरंगजेब ने जयसिंह को कहा की वह शिवाजी को परास्त कर दे .जयसिंह खुद को राम का वंशज मानता था .उसने युद्ध में जीत हासिल करने के लिए एक सहस्त्र चंडी यग्य भी कराया .शिवाजी को इसकी खबर मिल गयी थी जब उन्हें पता चला की औरंगजेब हिन्दुओं को हिन्दुओं से लड़ाना चाहता है .जिस से दोनों तरफ से हिन्दू ही मरेंगे .तब शिवाजी ने जयसिंह को समझाने के लिए जो पत्र भेजा था ,उसके कुछ अंश हम आपके सामने प्रस्तुत कर रहे है –

1 -जिगरबंद फर्जानाये रामचंद -ज़ि तो गर्दने राजापूतां बुलंद .

हे रामचंद्र के वंशज ,तुमसे तो क्ष त्रिओं की इज्जत उंची हो रही है .

2 -शुनीदम कि बर कस्दे मन आमदी -ब फ़तहे दयारे दकन आमदी .

सूना है तुम दखन कि तरफ हमले के लिए आ रहे हो

3 -न दानी मगर कि ईं सियाही शवद-कज ईं मुल्को दीं रा तबाही शवद ..

तुम क्या यह नही जानते कि इस से देश और धर्म बर्बाद हो जाएगा.

4 -बगर चारा साजम ब तेगोतबर -दो जानिब रसद हिंदुआं रा जरर.

अगर मैं अपनी तलवार का प्रयोग करूंगा तो दोनों तरफ से हिन्दू ही मरेंगे

5 -बि बायद कि बर दुश्मने दीं ज़नी-बुनी बेख इस्लाम रा बर कुनी .

उचित तो यह होता कि आप धर्म दे दुश्मन इस्लाम की जड़ उखाड़ देते

6 -बिदानी कि बर हिन्दुआने दीगर -न यामद चि अज दस्त आं कीनावर .

आपको पता नहीं कि इस कपटी ने हिन्सुओं पर क्या क्या अत्याचार किये है

7 -ज़ि पासे वफ़ा गर बिदानी सखुन -चि कर्दी ब शाहे जहां याद कुन

इस आदमी की वफादारी से क्या फ़ायदा .तुम्हें पता नही कि इसने बाप शाहजहाँ के साथ क्या किया

8 -मिरा ज़हद बायद फरावां नमूद -पये हिन्दियो हिंद दीने हिनूद

हमें मिल कर हिंद देश हिन्दू धर्म और हिन्दुओं के लिए लड़ाना चाहिए

9 -ब शमशीरो तदबीर आबे दहम -ब तुर्की बतुर्की जवाबे दहम .

हमें अपनी तलवार और तदबीर से दुश्मन को जैसे को तैसा जवाब देना चाहिए

10 -तराज़ेम राहे सुए काम ख्वेश -फरोज़ेम दर दोजहाँ नाम ख्वेश

अगर आप मेरी सलाह मामेंगे तो आपका लोक परलोक नाम होगा .

इस पत्र से आप खुद अंदाजा कर सकते है .शिवाजी का देश और धर्म के साथ हिन्दुओ के प्रति कितना लगाव था .हमें इस बात पर गर्व होना चाहिए कि हम उनके अनुयायी है .हमें उनके जीवन से सीखना चाहिए .तभी हम सच्चे देशभक्त बन सकते हैं

Advertisements

About Fan of Agniveer

I am a fan of Agniveer

Posted on June 20, 2012, in History. Bookmark the permalink. 11 Comments.

  1. Basant Jhariya

    Saraahniya lekh ! Uttam bhaav !

  2. इस पत्र का कोई जवाब आया था या नहीं ? और क्या “मिर्जा राजा” , लड़ाई के लिए दक्खन आया था ? कृपया तफसील से बताएं.

    • mirza raja neshivaji se ladaki ki thi aur shivaji hare the.. baad me mirza raja ki mout ho gai thi aur kaha jata hai ki usi ke kingne use marwaya tha zaher deke.

  3. haan aaya tha aur,…………..aur jaha tak mujhe yaad hai Shivaji se Raja Jay singh ki sandhi huyi thi

  4. shivaji sacche hindu the…aaj har hindu ko aapne andar ek shivaji paida karne ki zarurat hai..

  5. Jai Singh was a smarter General, a seasoned Statesman and strategist. It was obvious and wise for Shivaji to try his best avoid a confrontation with Jai Singh. But Jai Singh the Raja of Amber had sworn loyalty to Imperial throne and was not going to betray it (right or wrong, that is a matter of different debate).
    Anyway, so Jai Singh laid siege to Purandar Fort on 31st May 1665.
    Shivaji resolved to meet Jai Singh and lay his terms of agreement. He was given assurance by Jai Singh that he would not be harmed whether the talks bear fruit or not.
    On 11th June both the men met at Jai Singh’s court at the foot of Purandar Fort.
    23 Forts were surrendered by Shivaji and 12 retained on the condition of loyalty towards the Imperial throne.
    Shivaji asked to be excused from attending the Emperor’s court and proposed to send his son instead – with a contingent of 5,000 horses (to be paid by means of a jagir) for regular attendance and service under the Emperor.
    Next day on 12th June Shivaji vacated parts of Purandar fort that Marathas were still holding and also started surrendering other 22 Forts.
    Jai Singh presented Shivaji with an Elephant and two horses and sent him away to Raigarh with his officer.
    Jai Singh not only gained the war with Shivaji but also arranged peace between the Mughal throne up north and Marathas in south.
    It was the hot headed bigot Aurangzeb who threw it all away and broke the amenable peace.
    This happened in the Mughal court in absence of Jai Singh.
    Aurangzeb insisted on Shivaji paying visit to the Mughal court.
    Jai Singh tried to convince Shivaji by taking the solemn oath that Shivaji and his accomplices would not be harmed, that any harm would first have to through him and his men before it reached Shivaji.
    He made his son Ram Singh the caretaker/patron of Shivaji for his stay at the Mughal court.
    At the court, not only was Shivaji clueless about protocols of a polished court but also Aurangzeb’s court officials did a deliberate unjustifiable neglect of Shivaji.
    What transpired a that court that day, revolutionized the court of Indian history as Mughals managed to make Shivaji their bitterest enemy.
    Aurangzeb lived to repent this in his last days and admitted the same in his last will (not that he had any positive feelings even then but perhaps the fleeing of Shivaji from captivity).
    For Amber house, the officers of Ram Singh used to record daily Mughal court proceedings every evening. These records are compiled in ‘Jaipur archives’ and were accessed by Jadunath Sarkar while writing the ‘History of Jaipur’. These records provide the most authentic account of what happened that day in Mughal court.
    In the audience Hall itself the Mughal court Marshal placed Shivaji among the third grade nobles without consulting the Emperor or any other high official.
    Aurangzeb too (on his Birthday), after the formal introduction with Shivaji and exchange of formal greetings, turned to his business as if Shivaji didn’t exist.
    Upon learning he had been ranked a five -hazari Mansabdar (a rank even his son and servant had) Shivaji erupted in anger and burst out of the court after creating a furious scene.
    Shivaji could not be pacified even after Emperor sent 4 officers to reason with him.
    This was used by courtesans against Shivaji or Jai Singh (Amber house) in any way.
    Same did Mirza Raja Jaswant Singh of Marwar, who had fought against Aurangzeb in war of succession and was far uneasy in alliance with Mughals as compared to Amber. He took an open jibe at Emperor challenging him to punish Shivaji.
    So did Roshanara begum, asking for revenge for Shaista Khan (her grand uncle) and saying ‘every petty chieftain would rise in rebellion if this was ignored’.
    Aurangzeb decided to have Shivaji killed. A startled Ram Singh came forth and said that him and his father (Jai Singh) were oath bound to protect Shivaji. So they would die first before Shivaji was harmed.
    Emperor agreed after making Ram Singh sign a bond taking Shivaji’s full responsibility against any further unwanted incident.
    Shivaji was kept in his tent close to Ram Singh’s tent. He was guarded by a band of Ram Singh’s men in the closest ring and then the Mughal soldiers keeping an eye.
    Aurangzeb asked Jai Singh what exactly he had promised to Shivaji in peace treaty. Jai Singh replied with explaining the treaty’s terms, that nothing more was promised and also urged the Emperor in his reply that nothing would be gained but much harm be done if Shivaji was killed or captivated.
    He at the same time kept repeating to Ram Singh in his letters that Shivaji and their oath must be protected at any cost.
    Above all, the delicate peace subtly woven between Mughals and Marathas by Raja Jai Singh was at stake now.
    Shivaji tried to secure his release by bribing court officials to influence Aurangzeb. Shivaji promised to cede his remaining forts if allowed to return home in safety. Aurangzeb replied ‘there is no reason he cannot do that by writing from here to his officers in Deccan’.
    Then in despair Shivaji asked permission to turn sanyasi and spend remaining days in Prayag/Allahabad. Aurangzeb grimly replied ‘Yes let him live in my fort of Allahabad where my governor will take good care of him.”
    In those days there was once also an order to send Shivaji to Afghanistan on military campaign.
    Then Shivaji decided to make personal preparations for his release.
    At first, out of noble consideration he made Ram Singh take back his bail-bond he had signed to Aurangzeb while taking Shivaji’s full responsibility. By this he hoped to rid Ram Singh from future responsibility/blame for whatever was to happen.
    Shivaji feigned illness and began sending out baskets of sweets as charity. Over time, the mughal soldiers went lax in checking those baskets. On August 17, 1666 Shivaji’s half brother Hirji Farzand who looked like him, lay on his cot as a decoy. Shivaji and his son hid themselves in that day’s outgoing baskets and escaped from Agra.
    Upon detection a huge hue and cry rose in entire Mughal administration.
    Since Shivaji had escaped from the proximity of Ram Singh’s camp and soldiers, Aurangzeb’s suspicion naturally fell on Ram Singh for the feat, he ordered Ram Singh’s rank reduction and forbade him from the Court. It is also said that when tortured by Mughal troops, some maratha brahmins said that Ram Singh had helped Shivaji’s escape. But I’m unable to verify the same in any record.

  6. excellant and knowledge ful. your reply gives us good account of how veer shivaji managed to escape from cruel hands of fundemntalist aurangzeb

  7. जम्‍मू-कश्‍मीर के विलय के 65 वर्ष बाद एक सवाल

    27, अक्‍टूबर, 1947 को महाराजा हरिसिंह के हस्‍ताक्षर के बाद, जम्‍मू-कश्‍मीर का विलय भारत के साथ संपूर्ण हो गया था। राष्‍ट्रीय और अंर्तराष्‍ट्रीय नियमों के अनुसार जम्‍मू-कश्‍मीर 27 अक्‍टूबर, 1947 को भारत का अभिन्‍न अंग बन चुका था, जैसे बाकी रियासतें भारत से मिल गयी थीं। महाराजा ने विशेषकर, अपने विलय पत्र पर रक्षा, विदेशी मामले, संचार व मुद्रा को बिना किसी शर्त के भारत सरकार को सौंप दिया था। इस बात का उल्‍लेख संविधान सभा की बहस में भी बड़े जोरदार शब्‍दों में दर्ज है। परंतु 26 जनवरी, 1950 को भारत के एक संविधान में एक अस्‍थायी धारा-370 जो दस-पंद्रह साल में समाप्‍त कर दी जायेगी। मगर आज जम्‍मू-कश्‍मीर विलय के 65 वर्ष पूरे हो चुके हैं यानि आधी सदी से भी ज्‍यादा समय हो चुका है और भारत के शत्रु जो इस देश को कमजोर करना चाहते हैं वे तथाकथित कश्‍मीर के मुद्दे को उठाकर देश की एकता को कमजोर करने के लिये धारा-370 को तलवार के रूप में इस्‍तेमाल करके अस्थिरता पैदा करना चाहते हैं।

    सवाल यह है कि जब भारत का विलय 65 वर्ष पहले हुआ तो धारा-370 में संसद पर रोक क्‍यों लगायी गयी कि वह जम्‍मू-कश्‍मीर के बारे में कोई भी विधान या कानून बनाने में असमर्थ है। आज संसद का जो भी कानून बनता है उसके आगे लिखा जाता है कि यह कानून जम्‍मू-कश्‍मीर में लागू नहीं होगा, जबकि जम्‍मू-कश्‍मीर के विलय पर कोई भी प्रश्‍न नहीं उठता, यहां तक कि अंर्तराष्‍ट्रीय न्‍यायालय में पाकिस्‍तान के जज ने स्‍वयं इस बात को स्‍वीकार किया था कि महाराजा हरि सिंह को विलय करने का पूरा अधिकार था।
    धारा-370 को रखा जाय या हटाया जाय, प्रश्‍न देश के सामने यह नही है, प्रश्‍न यह है कि जब जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग बन चुका है तो क्‍या बात है कि देश की संसद अपने ही देश के लोगों के लिये क्‍यों कानून नही बनाती। यह रोक किसने लगायी है। इस रोक को 65 वर्ष तक क्‍यों नही हटाया गया। सवाल यह भी है कि जो राजनीतिक दल धारा-370 हटाने की बात करते रहे, उसके लिये सड़कों पर आंदोलन भी हुये, जब वे केन्‍द्र में सत्‍ता में आये, तो उन्‍होंने धारा-370 के बारे में खामोशी अख्त्यिार क्‍यों कर ली। हटाने की बात तो दूर रही उन्‍होंने धारा-370 में संशोधन की बात भी नहीं की।

    मुझे याद है कि जब मैं देश के उस समय के प्रधानमंत्री माननीय श्री अटल बिहारी वाजपेयी जी से उनके निवास पर मैंने दिसंबर, 2003 में जोरदार तर्क देकर उनसे धारा-370 में संशोधन करने का सुझाव दिया था। मेरा इतना मानना है कि यदि संसद को जम्‍मू कश्‍मीर पर कानून बनाने का अधिकार दिया जाये, जिसे संसद ने खुद ही अपने ऊपर अंकुश लगा रखा है, तो जम्‍मू कश्‍मीर के लोगों को ही नहीं, बल्कि पूरे विश्‍व के लोगों को एक संदेश जायेगा कि जम्‍मू-कश्‍मीर भारत का अभिन्‍न अंग है और रहेगा। मैंने वाजपेयी जी से यह अनुरोध किया था कि कम से कम उन तीन मुद्दों पर संसद को कानून बनाने का अधिकार तुरंत दे देना चाहिये, जिनमें रक्षा, विदेशी मामले, संचार एवं मुद्रा आदि मुद्दे शामिल हैं।

    वाजपेयी जी ने मुझे इस विषय पर एक संक्षिप्‍त लिखित सुझाव देने को कहा, मैंने उसी दिन शाम को वाजपेयी जी को अपना सुझाव पत्र एक अध्‍यादेश के शक्‍ल में बनाकर पेश किया। मैंने वाजपेयी जी से यह अनुरोध किया था कि जम्‍मू-कश्‍मीर विधानसभा को समवर्ती सूची में शामिल सभी मुद्दों पर कानून बनाने का अधिकार दिया जा सकता है, परन्‍तु भारत की सार्वभौमिकता को खंडित नही किया जा सकता। मेरा सुझाव था कि धारा-370 में यह संशोधन राष्‍ट्रपति द्वारा एक अध्‍यादेश से लागू किया जा सकता था और उसके बाद इसी मुद्दे पर संसद का चुनाव होना चाहिये कि देश के लोग जम्‍मू-कश्‍मीर की तथाकथित समस्‍या का हमेंशा-हमेंशा के लिये समाधान निकाल सके- काश कि वाजपेयी जी इस संशोधन को कर पाते।

    इसमें कोई संदेह नहीं कि धारा-370 को संविधान के पन्‍नों से पूरी तरह हटाना, शायद अभी मुमकिन नही होगा, परन्‍तु धारा-370 की तलवार से संसद की विधायी संसद को जम्‍मू-कश्‍मीर से अलग रखना भी देश की एकता और अखण्‍डता के लिये लाभदायक नही होगा। धारा-370 में संशोधन पूरे देश की रक्षा, अखण्‍डता और एकता के लिये अत्‍यंत आवश्‍यक है। तथाकथित स्‍वायत्‍तता के नारे देश को तोड़ने वालों के नारों से कम नहीं है, जम्‍मू-कश्‍मीर के लोग पाकिस्‍तान के वर्तमान विगड़ते हुये राजनीतिक व सामाजिक हालत से बाखबर है।

    उन्‍होंने पाकिस्‍तान की ओर से 1947, 1965 और 1999 के आक्रमण को नहीं भूला है ना ही जम्‍मू-कश्‍मीर के लोग पाकिस्‍तान की फौजी शासन को बर्दाश्‍त नहीं कर सकते हैं, वे धर्म-निरपेक्ष, भाईचारा और सद्भभावना के माहौल में पले हैं, बढ़े हैं। जम्‍मू-कश्‍मीर के लोग उस भेद-भाव से बाहर आना चाहते हैं, जिसे संविधान ने अपने दायरे में बंद कर रखा है। क्‍या संसद का अपने ऊपर जम्‍मू-कश्‍मीर में कानून न बनाने का अंकुश लगाना, जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों के साथ भेद-भाव नही है। यह है विलय दिवस पर जम्‍मू-कश्‍मीर के अवाम का सवाल, जिस दिन संसद अपने उपर लगाये इस अंकुश को खत्‍म कर देगी, जम्‍मू-कश्‍मीर में फिर से सर्द हवाएं चलना आरंभ हो जायेंगी, जम्‍मू-कश्‍मीर में ना उग्रवाद रहेगा और ना ही आतंकवाद।

    भारत का ध्‍वज हर घर पर लहरायेगा और प्‍यार, मोहब्‍बत और अमन चैन की फिज़ा फिर लौटकर आयेगी। यही था पैगाम विलय दिवस का, क्‍योंकि विलय दिवस का महत्‍व जम्‍मू-कश्‍मीर के लोगों के लिये वही है, जो 26 जनवरी पूरे राष्‍ट्र के लिये है। विलय के बावजूद जम्‍मू-कश्‍मीर का ध्‍वज अलग, संविधान अलग और जम्‍मू-कश्‍मीर के संविधान से मौलिक व मानव अधिकार गुम। 27 अक्‍टूबर को जम्‍मू-कश्‍मीर के लोग, उन वीर सैनिकों को श्रद्धांजलि देते हैं, जिन्‍होंने जम्‍मू-कश्‍मीर की रक्षा के लिये पाकिस्‍तान की ओर से आने वाले हमलावरों को अपने प्राणों की आहूति देकर उड़ी-बारामूला मार्ग पर रोके रखा, उनमें से लामसाल कुर्बानी है ब्रि0 राजेन्‍द्र सिंह और उनके साथ 150 उन डोगरा वीर सिपाहियों की जिन्‍होंने पाकिस्‍तान की ओर से हजारों हमलावरों को बारामूला में नहीं घुसने दिया और 26-27 अक्‍टूबर की रात वे शहीद हो गये।

    जम्‍मू-कश्‍मीर के विलय दिवस पर भव्‍य समारोह होने चाहिये, घर-घर तिरंगा का संदेश पहुंचना चाहिये ताकि हर व्‍यक्ति को विलय का संदेश पहुंच पाये और उसे भारतीय होने का स्‍वाभिमान प्राप्‍त हो सके।

  8. PHIR AAGE KYA HUA?? AUR WO DUSRA PATRA KYA THA??

  9. शिवाजी महाराज भारत के एक सच्चे हिन्दू राजा थे । और अभी भी सबके दिलो में राज कर रहे हे ।

  1. Pingback: 100 names of god | Arya Samaja

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: