Open Challanege to all Sufis/Miya/Baba/Khans


भाई चिराग शर्मा जी

OPEN CHALLENGE

आजकल सभी अखबारों में ,रेलवे स्टेशनों पर रेल गाडियों ने बसों में तथा लगभग सभी सार्वजानिक दीवारों पर आपको औलियाओं ,मोलवियों ,बंगाली मियां जादूगर बाबाओ और तांत्रिको के विज्ञापन , स्टिकर व् पोस्टर लगे मिल जाएंगे जिनमे तरह – तरह के झूठे आश्वासनों और घटिया हथकंडो का सहारा लेकर भोले-भाले और मूर्ख ( खासकर महिलाओं ) लोगों को उनकी तकलीफों ,समस्याओं, गृह कलेशों, आर्थिक व् पारिवारिक अप्तियों ,प्रेम संबंधों आदि से छुटकारा दिलाने का झूठा और बेबुनियाद झांसा देकर फसाया जाता है और उनका आर्थिक ,मानसिक और शारीरिक शोषण किया जाता है और उनके दुःख – दर्द आदि का नाजायज फ़ायदा उठाया जाता हैं तथा उन्हें मानसिक रूप से विकृत बना दिया जाता हैं ,जबकि इन बदमाश औलियाओं ,मौलवियों ,बंगाली मियां जादूगर बाबाओ और तांत्रिको आदि के पास ऐसी कोई अल्ल्लोकिक ताक़त या इल्म आदि नहीं होता जिससे ये किसी का भला कर सकें अपितु ये खुद नशेडी ,ऐयाश, चालबाज़ ,धोकेबाज़ और अपराधिक परवर्ती के होते हैं !
जैसा कि हम अखबारों में पढ़ते हैं और T . V . पर समाचारों में देखते हैं की आये दिन फलां मौलवी या औलिया ने किसी महिला को निशिला पदार्थ खिला कर उसका शील भंग कर दिया और उसकी विडियो फिल्म बना कर उसे ब्लैक मेल करने लगा या किसी व्यक्ति का कोई काम करवाने के एवज़ में लाखो रूपये ठग लिए या किसी बाँझ महिला से किसी बच्चे कि क़ुरबानी करवा दी आदि !

इसलिए आज मै उन सभी करामाती औलियाओं ,मोलवियों ,बंगाली मियां जादूगर बाबाओ और तांत्रिको को खुली चुनोती देता हूँ कि वे निम्न में से किसी 1 चुनोती पर भी खरे उतर कर दिखा दे तो मै चिराग शर्मा आजीवन उनका चेला बनकर रहूँगा !

निम्न प्रकार के कार्य धोखारहित परिस्थितियों में करके दिखाएँ –

1- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट की ठीक नकल पैदा कर सकता हो।
2- जो किसी सीलबंद करेंसी नोट का नंबर पढ सकता हो।
3- जो जलती आग में अपने पीर आदि की सहायता से आधे मिनट के लिए नंगे पैर खडा हो सकता हो।
4- ऐसी वस्तु जो मैं मांगूं, हवा में से प्रस्तुत कर दे।
5- टेलीपैथी द्वारा किसी दूसरे व्यक्ति के विचार पढ कर बता सकता हो।
6- मनोवैज्ञानिक शक्ति से किसी वस्तु को हिला या मोड सकता हो।
7- इबादत , रूहानी ताक़त जम-जम पानी से या पाक राख से अपने शरीर को एक इंच बढा सकता हो।
8- जो रूहानी ताक़त से हवा में उड सके। ( पीर बाबा ध्यान दें )
9- रूहानी ताक़त से पांच मिनट के लिए अपनी नब्ज रोक सके।
10- पानी पर पैदल चल सके।
11- अपना शरीर एक स्थान पर छोड कर दूसरी जगह हाजिर हो।
12- रूहानी ताक़त से 30 मिनट के लिए श्वास क्रिया रोक सके।
13- रचनात्मक बुद्धि का विकास करे। इबादत या आसमानी ताक़त से अत्मज्ञान प्राप्त करे।
14- करामाती या रूहानी इल्म से कोई अनोखी भाषा बोल सके।
15- ऐसी रूह ,जिन , मुवकिल या खबीस हाजिर करे, जिसकी फोटो खींची जा सकती हो।
16- फोटो खींचने के बाद वह फोटो से अलोप हो सके।
17- ताला लगे कमरे में से रूहानी ताक़त से बाहर निकल सके।
18- किसी चीज का वज़न बढा सके।
19- छिपी हुई वस्तु को खोज सके।
20- पानी को शराब या पेट्रोल में बदल सके।
21- शराब को रक्त में बदल सके।
22- ऐसे आलमी ,औलिया ,मौलवी व् बंगाली मिया जादूगर जो यह कह कर लोगों को गुमराह करते हैं कि काला जादू वगराह वैज्ञानिक हैं, तो मेरी चुनोती स्वीकार करें ! यदि वे दस चित्रों या दस पत्रियों को देख कर आदमियों तथा औरतों की (समय आने पर) अलग अलग संख्या, जीवित तथा मरे की अलग अलग संख्या बता सकें या जन्म का ठीक समय और स्थान अक्षांस और देशान्तर रेखाओं सहित बता सकें। इसमें 10 प्रतिशत की गल्तियों की छूट होगी।

और जैसी कि मुझे उम्मीद ही नहीं पूरा विश्वास है कि मेरी ये कुछ तुच्छ चुनोतियाँ कोई माई का लाल आलमी ,औलिया ,मौलवी व् बंगाली मिया जादूगर स्वीकार करने का दम नहीं रखता तो मै अपने सभी भाइयों – बहनों से से ये गुजारिश करता हूँ के आप इन बदमाशों के चक्कर में पड़कर अपना धन ,समय ,स्वास्थ्य और इज्जत न गवाएं !

आपकी समस्याओं का सबसे बेहतर समाधान केवल इश्वर के पास है जिसे आप अपने विवेक से ही प्राप्त कर सकते हैं !

Advertisements

About Fan of Agniveer

I am a fan of Agniveer

Posted on July 6, 2012, in we condemn superstitions. Bookmark the permalink. 4 Comments.

  1. शिवेंद्र मोहन सिंह

    अगर यही लोग सब काम कर देते तो भगवान की जरूरत ही क्या थी ? लोग बेवकूफी करते हैं जो इन लोगों की तरफ जाते है अपने पैरों पर खुद ही कुल्हाड़ी मारते हैं बाद में पछताते हैं. लोगों को जागरूक करने की जरूरत है की इनलोगों के बहकावे में ना आएं… इति शुभम

  2. Dr.Himanshu Yajurvedi

    nice post…….

  3. Hari Om …

  1. Pingback: 100 names of god | Arya Samaja

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: