फलित ज्योतिष पाखंड से जयादा कुछ नहीं हैं


दुसरो का भविष्य बताने वाले आशु भाई ज्योतिष आचार्य , वरुण इंक्लाव रोहिणी के यहाँ से ५० लाख रूपए की चोरी हो गयी. आशु भाई ज्योतिष आचार्य लोगों को किसी भी प्रकार की विपत्ति अथवा कठिनाई न आये अथवा कोई कठिनाई आ जाये तो उससे निपटने का समाधान बताते हैं.आशु भाई महाराज एवं उनके जैसे अन्य ज्योतिषियों से कुछ प्रश्न—

१. सभी ज्योतिषी दुसरो का भविष्य भली प्रकार से बताने का दावा करते हैं जबकि वे खुद का भविष्य नहीं बता पाते. आखिर क्यूँ?

२. आशु भाई अपनी ही जन्मपत्री, हस्त रेखा, माथा आदि देखकर यह क्यूँ नहीं बता सके की उनके यहाँ पर चोरी होने वाली हैं?

३. चोरो को पकड़ने के लिए उन्हें थाने में जाने की क्यूँ जरुरत पड़ी वे अपनी दिव्य शक्तियों से चोर कहाँ छिपे हैं उनका पता क्यूँ नहीं लगा सके?

४. दो व्यक्तियों पर चोरी का अंदेशा लगाया जा रहा हैं वे दोनों तीन वर्ष से आशु भाई के पास कर्मचारी के रूप में रह रहे थे. जब उनको आशु भाई ने नौकरी पर रखा तो उनकी जन्म पत्री देख कर आशु भाई यह क्यूँ नहीं जान पाए की यह भविष्य में चोरी करेगे?

आशु भाई या इनके जैसे अन्य ज्योतिषी केवल मात्र साधारण जनता को मूर्ख बनाने का कार्य करते हैं.

इनसे सावधान रहे और अन्य को भी इस प्रकार की ढोंगियों से सावधान करे.

(पाखंड खंडन के लिए जनहित में जारी)

TIMES OF INDIA newspaper link

http://articles.timesofindia.indiatimes.com/2011-03-07/delhi/28665156_1_rs-50l-office-door

Advertisements

About Fan of Agniveer

I am a fan of Agniveer

Posted on August 7, 2012, in we condemn superstitions. Bookmark the permalink. 5 Comments.

  1. sandeep bansal

    Agniveer fans ji agar koi Doctor nikkama ho yo kya poori medical science jhoothi ho jati hai ?

  2. ओ महान ज्ञानी फ़लित ज्योतिष को पाखण्ड मानने वालो जरा एक बात बताओ क्या चन्द्रमा के कलाओ अमावस्या व पूर्णिमा को समुद्र मे ज्वार भाटा नही आता है यदि समुद्र के जल पर च्न्द्रमा का प्रभाव हो स्कता है तो मनुष्य के शरीर मे भी लग्भग ७५ % जल तत्व है तो क्या च्न्द्रमा की कलाओ का प्रभाव मनुष्य पर नही होगा मनुष्य तो क्या सभी जीवो यम्हा तक की पेड़ पौधों पर भी च्न्द्रमा का प्रभाव निश्चय ही होगा और जो इसको पाखण्ड कहे वो स्वयं ही मुर्ख प्रमाणित हो जाता है फ़िर वो चाहे कोई भी हो इसी तरह अन्य ग्रहो का भी प्रभाव होता है जो प्रमाणित भी किया जा सकता है परन्तु मूर्खो का मुह बन्द करने के लिये इतना ही काफ़ी है

  3. i agree with agniveer…………………………..Hindu must destroy this anti religion ..but some foolish fraud use offensive word..you foolish man read history.Hindu lost war due to this foolish jotish …………..it is not part of hinduism

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: