देश कैसे खुशहाल हो सकेगा


एक बार एक हंस और एक हंसिनी जंगल में घूम रहे थे बातों बातों में समय का पता नहीं चला शाम हो गयी, वो अपने घर का रास्ता भूल गए और चलते-चलते एक सुनसान जगह पर एक पेड़ के नीचे जाकर रुक गए . हंसिनी बोली मैं बहुत थक गयी हूँ चलो रात यहीं बिताते हैं सुबह होते ही चल पड़ेंगे. हंस बोला ये बहुत सुनसान और वीरान जगह लगती है (—-”यहाँ कोई उल्लू भी नहीं रहता है”—–) चलो कोई और जगह देखते हैं . उसी पेड़ पर बैठा एक उल्लू हंस और हंसिनी बातें सुन रहा था वो बोला आप लोग घबराएँ नहीं मैं भी यहीं रहता हूँ , डरने की कोई बात नहीं है आप सुबह होते ही चले जाईयेगा . हंस और हंसिनी उल्लू की बात मानकर वहीँ ठहर गए .   सुबह हुई हंस और हंसिनी चलने लगे तो उल्लू ने उन्हें रोक लिया और हंस से बोला तू हंसिनी को लेकर नहीं जा सकता ये मेरी पत्नी है. हंस बोला भाई ये क्या बात कर रहे हो तुम जानते हो कि हंसिनी मेरी पत्नी है. उल्लू बोला नहीं हंसिनी मेरी पत्नी है तू इसे लेकर नहीं जा साकता . धीरे-धीरे झगड़ा बढ गया और तू-तू में-में होने लगी . उल्लू हंस की बात मानने को तैयार ही नहीं था . तभी चतुराई से उल्लू बोला कि हम पंचों से इस बात का फैसला करवाएंगे कि हंसिनी किसकी पत्नी है . हंस के पास कोई चारा नहीं था . उल्लू उनको लेकर पास के गाँव में गया और हंस ने पंचों को अपनी व्यथा सुनाई. फिर फैसले के लिए पंचायत बुलाई गयी सभी पंचों ने विचार विमर्श किया और सोचा कि हंस तो कहीं बाहर से यहाँ आया है और उल्लू तो हमारे गाँव में ही रहता है इसलिए हंसिनी उल्लू को ही दे देते हैं जिससे हंसिनी हमारे गाँव में ही रहेगी. पंचों ने फैसला सुनाया हंस को बोले कि हंसिनी उल्लू की ही पत्नी है और उसे तुम उसे लेकर नहीं जा सकते हो.हंस दुखी होकर रोने लगा. फिर तीनों लोग वापस गाँव से बाहर निकल कर उसी पेड़ के पास जाकर रुके. हंस बहुत दुखी था तभी उल्लू बोला हंस दुखी मत हो हंसिनी तेरी ही पत्नी है और तू ही इसे लेकर यहाँ से जायेगा. लेकिन मेरी एक नसीहत सुन —->
”ये जगह इसलिए इतनी सुनसान और वीरान नहीं है कि यहाँ उल्लू रहता है बल्कि इसलिए सुनसान और वीरान कि यहाँ ऐसे पंच रहते हैं जो उल्लू की बात मान कर फैसले लेते हैं”.
दोस्तों आने वाले समय में हमें ऐसे पंचों को हटाना है और ऐसे पंच ढूढने हैं जो उल्लुओं की बात न मानें तभी हमारा देश खुशहाल हो सकेगा.
Advertisements

About Fan of Agniveer

I am a fan of Agniveer

Posted on August 27, 2012, in daily gossips. Bookmark the permalink. 2 Comments.

  1. Thakur Budh Pal Singh Chandel

    BRTMAN ME JO SANSAD KE ANDER CHL RAHA HAI ,MALUM HOTA HAI UNME ADHIKANSH APNA APNA ULLU SEEDHA KRNE ME ITNE BYAST HAI KI UNE JNTA /DESH KI CHINTA NAHI HAI ,HME BHI AISE ULLUYO SE DUR RAHKR ACHCHE BYAKTIYO KO SNGTHIT KR APNI DESH HITARTH STREDGI BNANAI CHAHIYE ,NAHI TO HANSH JAISE HALAT HOJAYEGE.
    AAYO HM SAB AADRNEEY SWAMI RAM DEV JI KE AANDOLN KO DRUT GATI DEKR BHARAT KO VISHWGURU BNA NE KA FIR PRAYSH KARE .
    VNDEMATRAM/JAI HIND.

  1. Pingback: 100 names of god | Arya Samaja

Leave a Reply

Fill in your details below or click an icon to log in:

WordPress.com Logo

You are commenting using your WordPress.com account. Log Out / Change )

Twitter picture

You are commenting using your Twitter account. Log Out / Change )

Facebook photo

You are commenting using your Facebook account. Log Out / Change )

Google+ photo

You are commenting using your Google+ account. Log Out / Change )

Connecting to %s

%d bloggers like this: